रायपुरछत्तीसगढ

कैट के प्रयासों से फुटवियर पर बीआईएस मानकों की बाध्यता के आदेश को केंद्र सरकार ने एक वर्ष के लिए किया स्थगित

संवाददाता:- सागर बत्रा रायपुर

रायपुर,न्यूज़ धमाका:- कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र दोशी, कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव महामंत्री सुरिन्द्रर सिंह ने बताया कि कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की पहल तथा देश के फुटवियर व्यापार के बड़े संगठन इंडीयन फ़ुटवियर एसोसिएशन के सतत प्रयासों से प्रदेश सहित देश भर के फुटवियर व्यापारियों की केंद्र सरकार ने एक बड़ा लाभ दिया है कल केंद्र सरकार द्वारा जारी एक अधिसूचना के ज़रिए  फ़ुटवियर व्यापारियों एवं निर्माताओं पर बीआईएस मानकों की बाध्यता के आदेश को 1 वर्ष के लिए स्थगित किया है अधिसूचना के मुताबिक अब यह आदेश देश में 1 जुलाई से लागू होगा

इसी क्रम में कल कैट के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्ष विवेक जौहरी से भी मुलाकात कर फुटवियर पर 5 प्रतिशत जीएसटी कर लगाने की जोरदार वकालत की है ज्ञातव्य है की कैट ने इस मुद्दे को बड़े प्रमुख रूप से केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के साथ पिछले दिनों उठाया था और दलील दी थी की देश भर में बड़ी संख्या में फुटवियर बनाने वाले छोटे निर्माता और व्यापारी जो सस्ते जूते एवं चप्पल बनाते और बेचते हैं और उन्हें देश के 85 प्रतिशत से अधिक लोग पहनते हैं के लिए बीआईएस के मानकों का पालन करना असम्भव है और यदि इस बाध्यता को समाप्त नहीं किया गया तो बड़ी मात्रा में फुटवियर का व्यापार हमारे छोटे व्यापारियों के हाथ से निकल जाएगा और जिसके स्थान पर विदेशी जूते चप्पल बिकेंगे तथा इसी क्रम में चीनी सामान भी बड़ी मात्रा में बिकेगा कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी एवं प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र दोशी ने वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल का आभार व्यक्त करते हुए कहा की गोयल ने फुटवियर पर कैट द्वारा उठाए गए मुद्दों को समझा और देश के व्यापार के जमीनी हकीकत को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत देश के फ़ुटवियर निर्माताओं और व्यापारियों को बीआईएस की बाध्यता से फ़िलहाल एक वर्ष के लिए मुक्ति दी है

पारवानी एवं दोशी ने बताया की फ़ुटवियर व्यापार के सबसे बड़े संगठन अखिल भारतीय संगठन इंडीयन फ़ुटवियर एसोसिएशन ने गोयल को विश्वास दिया है की बेशक बीआईएस की बाध्यता न हो किंतु फिर भी देश भर में फ़ुटवियर निर्माता अच्छी गुणवत्ता का सामान बनाएँगे जिससे भारत के फुटवियर उत्पादों का दुनिया भर में बड़ी मात्रा में निर्यात हो सके पारवानी एवं दोशी ने बताया की भारत में 85 प्रतिशत फुटवियर का उत्पादन बड़े  पैमाने पर छोटे और गरीब लोगों द्वारा किया जाता है या घर में चल रहे उद्योग एवं कुटीर उद्योग में किया जाता है इस वजह से भारत में फुटवियर निर्माण के बड़े हिस्से पर बीआईएस मानकों का पालन करना बेहद मुश्किल काम है भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा फुटवियर निर्माता है पूरे भारत में फैली दस हजार से अधिक निर्माण इकाइयां और लगभग 1.5 लाख फुटवियर व्यापारी 30 लाख से अधिक लोगों को रोजगार दे रहे हैं जिनमें ज्यादातर फुटवियर बेहद सस्ते और पैरों की केवल सुरक्षा के लिए बनाए जाते हैं मकान और कपडे की तरह फुटवियर भी एक आवश्यक वस्तु है जिसके बिना कोई घर से बाहर नहीं निकल सकता है इसमें बड़ी आबादी घर में काम करने वाली महिलाएं मजदूर छात्र एवं आर्थिक रूप से कमजोर और निम्न वर्ग के लोग हैं देश की 60 प्रतिशत आबादी 30 रुपये से 250 रुपये की कीमत के फुटवियर पहनती है

वहीं लगभग 15 प्रतिशत आबादी रुपये 250 से रुपये 500 की कीमत के फुटवियर का इस्तेमाल करती और 10 प्रतिशत लोग 500 रुपये से 1000 रुपये तक के जूते का उपयोग करते हैं शेष 15 प्रतिशत लोग बड़ी फुटवियर कंपनियों अथवा आयातित ब्रांडों द्वारा निर्मित चप्पल सैंडल या जूते खरीदते हैं दोनों व्यापारी नेताओं ने कहा की भारत में फुटवियर के निर्माण में क्योंकि 85 प्रतिशत निर्माता बहुत छोटे पैमाने पर निर्माण करते हैं एवं निर्माण की बुनियादी जरूरतों से भी महरूम हैं इसलिए उनके लिए  सरकार द्वारा फुटवियर के लिए निर्धारित बीआईएस मानकों का पालन करना असंभव होगा साधू संतों की खड़ाऊं पंडितों द्वारा उपयोग की जाने वाली चप्पल मजदूरों द्वारा पहने जाने वाले रबड़ और प्लास्टिक के फुटवियर पर क्या बीआईएस मानकों का पालन संभव है इस पर विचार करना बहुत जरूरी है इन मानकों का पालन केवल बड़े स्थापित निर्माताओं या आयातित ब्रांडों द्वारा ही किया जा सकता है

भारत विविधताओं का देश है जहां गरीब तबके निम्न या मध्यम वर्ग उच्च मध्यम वर्ग और उच्च वर्ग के लोगों के विभिन्न वर्ग अपनी आर्थिक क्षमता के अनुसार विभिन्न प्रकार के फुटवियर पहनते हैं ऐसी परिस्थितियों में केवल एक लाठी से सबको हांकना फुटवियर उद्योग के साथ बड़ा अन्याय होगा ।

Chhattisgarh News Dhamaka Team

स्टेट हेेड छत्तीसगढ साधना प्लस न्यूज ( टाटा प्ले 1138 पर ) , चीफ एडिटर - छत्तीसगढ़ न्यूज़ धमाका // प्रदेश उपाध्यक्ष, छग जर्नलिस्ट वेलफेयर यूनियन छत्तीसगढ // जिला उपाध्यक्ष प्रेस क्लब कोंडागांव ; हरिभूमि ब्यूरो चीफ जिला कोंडागांव // 18 सालो से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय। विश्वसनीय, सृजनात्मक व सकारात्मक पत्रकारिता में विशेष रूचि। कृषि, वन, शिक्षा; जन जागरूकता के क्षेत्र की खबरों को हमेशा प्राथमिकता। जनहित के समाचारों के लिये तत्परता व् समर्पण// जरूरतमंद अनजाने की भी मदद कर देना पहली प्राथमिकता //

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!